शाहरुख खान ने एक प्रसिद्ध अभिनेत्री को फेंका बालकनी से तो बने सुपरस्टार! जानिए क्या हुआ था?

शाहरुख़ को बाज़ीगर फिल्म के इस सीन ने बनाया सुपरस्टार!

सर्वविदित है कि फ़िल्म जगत में किसी कलाकार के लिए कोई एक फ़िल्म का सीन उसके कैरियर के लिये मील का पत्थर साबित होता हैं। फ़िल्म जगत में ऐसे कई अभिनेताओं के किरदार हैं जिनके एक सीन ने उनके कैरियर को सफलता की ओर मोड़ दिया। चाहे फिर अमज़द खान का शोले का गब्बर वाला किरदार हो जिसमें उनके डायलॉग "वो कितने आदमी थे" के दृश्य ने जो किरदार के प्रभाव को गड़ा वो आजतक जहन में जीवंत हैं। शोले में ही बिना हाथ के ठाकुर का मजबूत किरदार, जिसे संजीव कुमार ने निभाया था आदि। इन्ही किरदारों में से एक किरदार शाहरुख खान का बाज़ीगर में था, जिसके एक विशेष सीन ने उनके कैरियर को सफलता की तरफ मोड़ दिया। 

शाहरुख़ खान फिल्म बाज़ीगर में अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी को बालकनी से फेंकते हुए दृश्य में 


हाल ही में अब्बास मस्तान एक इवेंट के दौरान फ़िल्म जगत में अपने सफर के संबंध में खुलासा कर रहे थे तो उन्होंने अपने संघर्ष और कैरियर में मील का पत्थर साबित हुई फ़िल्म के बारें में बता रहे थे। जैसा कि हम जानते है कि फ़िल्म निर्देशक जोड़ी अब्बास मस्तान ने अपने कैरियर की शुरुआत जीतेंद्र की फ़िल्म अग्निकाल से की, जो कि उन्हें दो साल के कड़े संघर्ष के बाद मिली थी। उसके बाद दोनों भाइयों की निर्देशक जोड़ी ने कभी मुड़कर नहीं देखा और एक के बाद एक कई हिट फिल्में दी। इनकी फिल्मों में मुख्य फिल्में बाज़ीगर, ऐतराज़, अजनबी, बादशाह, रेस और रेस 2 आदि हैं। दोनों भाइयों ने खुलासा किया कि शाहरुख खान की बाज़ीगर ने दर्शकों के बीच उनके बारे में सनसनी फैला दी। यह फ़िल्म उनके कैरियर के लिए एक आशा की किरण बनी। 

शाहरुख़ खान फिल्म बाज़ीगर के निर्देशक अब्बास मस्तान के संग  


एक मीडिया इवेंट के दौरान फ़िल्म जगत में अपने योगदान को लेकर उन्होंने बताया कि फ़िल्म बाज़ीगर को लेकर वे बहुत उत्साहित थे। उन्होंने फिल्म के लिये उस समय के सुपरस्टार अनिल कपूर को संपर्क किया। लेकिन उन्होंने फिल्म करने से मना कर दिया। कहते है कि फ़िल्म जगत में किसी के न से किसी दूसरे संघर्षरत कलाकार के लिये अवसर बना देती हैं। आगे यही हुआ। अब्बास मस्तान फ़िल्म के मुख्य कलाकार के चयन को लेकर चिंतित थे। इसी दौरान एक कलाकार अमृत पटेल थे जो कि उस समय के संघर्षरत कलाकार शाहरुख खान के साथ टीवी सीरियल फौजी में कार्य कर चुके थे। उन्होंने शाहरुख के नाम अब्बास मस्तान को सुझाया। उन्होंने शाहरूख के बारे में उन्हें बताया कि वह बहुत ही दिल से और जुनून से आपकी फ़िल्म के किरदार को निभाएगा। फिर क्या था कि जैसे शाहरुख की जिंदगी में स्वर्ण अवसर इंतजार कर रहा था। प्रोड्यूसर रतन जैन की सहमति के बाद शाहरुख से संपर्क किया। 

निर्देशक जोड़ी ने आगे बताया कि कैसे शाहरुख ने फ़िल्म की कहानी सुनाने के लिये मजबूर किया ताकि वह जान सके कि हम उनसे फ़िल्म में चाहते क्या हैं। हमने शाहरुख को कहानी सुनाई तो हमारा कहानी का अनुभव बुरा था। किंतु शाहरुख समझ गए कि उन्हें फ़िल्म में उनसे क्या चाहिये। फिर क्या, शाहरूख ने फ़िल्म के लिये हाँ कर दी। आगे तो फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर इतिहास बना दिया।

आगे फिर निर्देशक जोड़ी ने बताया कि उन्होंने फिल्म का पहला शो थिएटर में दर्शकों की प्रतिक्रिया जानने के लिये देखा। हमने जो सोचा भी नही वो हुआ। जब फ़िल्म एक सीन में शाहरुख खान बालकनी में ले जाकर शिल्पा शेट्टी को नीचे फेकते हैं तो वास्तव में थिएटर में लोगों के मुंह से जोर से चीख निकल पड़ती हैं। क्योंकि वह इसके लिये तैयार नही थे। लेकिन जब वह क्राइम दृश्य से निकलकर जाते है तो तालियां और सीटियां बजने लगी थी। यह देखकर हम अचंभित थे। यह प्रतिक्रिया सोची भी नही थी। उस किरदार के लिये तालियों और सीटियों ने उस व्यक्ति को आज का सुपरस्टार बना दिया। शाहरुख खान के फिल्मी कैरियर में यह फ़िल्म मील का पत्थर साबित हुई। उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नही देखा। उसके बाद शाहरुख ने डर, कभी हाँ कभी न, करण अर्जुन, दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे जैसी फिल्में की। इसके बाद शाहरूख खान ने बॉलीवुड के बादशाह की पदवी पाई। 

निर्देशक जोड़ी अब्बास मस्तान ने अपनी अंतिम फ़िल्म मशीन बनाई थी, जिसमें उन्होंने अपने पुत्र मुस्तफा को लांच किया था। अभी वह कोई दूसरी फिल्म पर काम कर रहे हैं, जिसमें बॉबी देओल मुख्य किरदार में दिखेंगे।




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुछ लोग कामुकता से भरे रहते है, ये बात उन्हें खुद पता नहीं होती, तमन्ना भाटिया ने कहा!

दीपिका पादुकोण ने विश्व की सबसे जीवित सेक्सी महिला की सूची में प्रियंका चोपड़ा को पछाड़ा!

साउथ स्टार रष्मिका मंदान्ना चाहती है, इन साउथ सुपरस्टारों के साथ फिल्म!